BANNER NEWSBREAKING NEWSराजनितीराजस्थान

राजस्थान में जारी सियासी संकट के बीच सचिन पायलट को मनाने की कांग्रेस की कोशिशें जारीं !

पूरा मामला एक ऐसा रूख़ लेता नज़र आ रहा जिससे ये भी कहना मुश्किल होता जा रहा है कि सचिन कांग्रेस में ही रहेंगे या पार्टी छोड़ देंगे.

राजस्थान में जारी सियासी घमासान के बीच कांग्रेस अध्यक्ष और उप मुख्यमंत्री पद से सचिन पायलट की जिस तरह छुट्टी की गई उसके बाद उनके सामने अलग राजनीतिक रास्ते पर चलने के अलावा और कोई उपाय नहीं रह गया है. अभी यह कहना तो कठिन है कि वह किस रास्ते पर जाएंगे. बता दे कि डिप्टी सीएम और अध्यक्ष पद से हटाए जाने के बाद पायलट ने बुधवार को कहा कि वे भाजपा में शामिल नहीं हो रहे हैं.

ऐसे में कांग्रेस पार्टी ने कांग्रेस पार्टी ने बागी हुए सचिन पायलट को स्पष्ट संकेत देते हुए बुधवार को कहा कि अगर वे भाजपा में नहीं जाना चाहते तो हरियाणा में भाजपा सरकार का आतिथ्य त्याग दें और वापस अपने घर जयपुर लौट आएं.

तो वहीं दूसरी ओर कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि चुनाव हारने के बाद भी सचिन पायलट को राजस्थान कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया. जितना प्रोत्साहन सचिन पायलट को मिला, उतरा किसी भी दल में किसी को नहीं मिला है. सुरजेवाला ने कहा कि हमने मीडिया के जरिए सचिन पायलट का बयान सुना कि वह बीजेपी में नहीं जाना चाहते. तो मैं उनको कहूंगा कि अगर ऐसा है तो हरियाणा में बीजेपी की सरकार की मेजबानी से वापस आइए. बीजेपी के किसी भी नेता से वार्तालाप बंद कर दीजिए.

दिल्ली से राजस्थान आए अविनाश पांडे ने कहा कि सचिन पायलट के लिए पार्टी के दरवाजे अभी खुले हुए हैं. उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा है, “पायलट के लिए पार्टी के दरवाजे बंद नहीं हुए हैं, भगवान उनको सद्बुद्धि दे और उन्हें उनकी गलती समझ आए . मेरी प्रार्थना है भाजपा के मायावी जाल से वो बाहर निकल आए. ”
कांग्रेस नेताओं की इन बातो से ये साफतौर पर जाहिर हो रहा है कि पार्टी अभी भी सचिन को खोना नहीं चाहती है.

इस बीच पूरा मामला एक ऐसा रूख़ लेता नज़र आ रहा जिससे ये भी कहना मुश्किल होता जा रहा है कि सचिन कांग्रेस में ही रहेंगे या पार्टी छोड़ देंगे.हालांकि सचिन अभी भी कांग्रेस के सदस्य हैं. ना तो उन्हें पार्टी से निकाला गया है और न ही उन्होंने इस्तीफ़ा दिया है.सचिन पायलट ने फिर से दोहराया है कि वो बीजेपी में नहीं जा रहे और साथ ही ये भी कि इस तरह की बातें गांधी परिवार से उनके रिश्ते ख़राब करने के लिए उड़ाई जा रही हैं.

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *