BANNER NEWSBREAKING NEWSकोरोना वायरसदेश

देश भर में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच पीएम मोदी ने की समीक्षा बैठक, NCR में संक्रमण रोकने के प्रयासों पर दिया जोर !

भारत में कोरोना मरीजों की संख्या आठ लाख के पार निकल चुकी है. ऐसा तो तब है जब केंद्र व राज्य सरकारें इस जानलेवा वायरस की रोकथाम के लिए हर संभव प्रयास कर रही हैं. 

देश में जहां एक तरफ कोरोना वायरस के नए मामले आने का सिलसिला जारी है. वहीं, दूसरी तरफ कोरोना वायरस से संक्रमित लोग भारी संख्या में ठीक भी हो रहे हैं. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, देश में कोरोना से 5 लाख लोग संक्रमणमुक्त हो चुके हैं. देश का रिकवरी रेट 62.78 प्रतिशत है. हालात यह है कि भारत ने विश्व के सर्वाधिक कोरोना प्रभावित कई देशों को भी पीछे छोड़ दिया है. भारत में कोरोना मरीजों की संख्या आठ लाख के पार निकल चुकी है. ऐसा तो तब है जब केंद्र व राज्य सरकारें इस जानलेवा वायरस की रोकथाम के लिए हर संभव प्रयास कर रही हैं.

इन सब चिंताओं ( COVID-19 Situation ) के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( Prime Minister Narendra Modi ) ने इस पर शनिवार को एक समीक्षा बैठक ( Reviewe Meeting ) की है. बैठक में गृह मंत्री अमित शाह और स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन भी मौजूद थे. नीति आयोग के सदस्य और कैबिनेट सचिव ने भी बैठक में हिस्सा लिया.

बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ( PM Narendra Modi ) ने सार्वजनिक स्थानों पर व्यक्तिगत स्वच्छता और सामाजिक अनुशासन के पालन पर जोर दिया है. इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना के बारे में जागरूकता का व्यापक रूप से प्रसार किया जाना चाहिए और संक्रमण के प्रसार को रोकने पर जोर दिया जाना चाहिए. इस मौके पर प्रधानमंत्री ने दिल्ली में कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए केंद्र, राज्य सरकार और स्थानीय निकायों के संयुक्त प्रयास की सराहना की और ऐसा ही प्रयास एनसीआर में भी किये जाने पर आवश्यकता जताई.


पीएम मोदी ने सार्वजनिक स्थानों पर साफ-सफाई और सामाजिक अनुशासन के पालन की जरूरत पर जोर दिया. उन्होंने कहा कि महामारी के बारे में व्यापक जागरूकता फैलाई जानी चाहिए और संक्रमण के प्रकोप की रोकथाम पर सतत जोर होना चाहिए. बयान के मुताबिक, पीएम मोदी ने कहा कि इस संबंध में संतुष्ट हो जाने की कोई गुंजाइश नहीं है.

पीएम मोदी ने यह निर्देश भी दिया कि अधिक संक्रमण दर वाले सभी राज्यों और स्थानों पर तत्काल राष्ट्रीय स्तर की निगरानी और दिशा-निर्देशन की व्यवस्था होनी चाहिए. बयान के अनुसार, “प्रधानमंत्री ने दिल्ली में महामारी के हालात पर नियंत्रण में केंद्र, राज्य और स्थानीय अधिकारियों के समन्वित प्रयासों की प्रशंसा की.” इसमें कहा गया, “उन्होंने यह निर्देश भी दिया कि पूरे एनसीआर क्षेत्र में कोविड-19 महामारी पर काबू पाने में अन्य राज्य सरकारों को भी इस तरह के प्रयास करने चाहिए.”

बयान में बताया गया कि बैठक में अहमदाबाद में ‘धन्वन्तरि रथ’ के माध्यम से निगरानी और घर-घर जाकर मरीजों की देखभाल करने के ‘सफल उदाहरण’ का भी उल्लेख किया गया और निर्देश दिया गया कि अन्य स्थानों पर भी इसे अपनाया जा सकता है.

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *