BANNER NEWSBREAKING NEWSदुनियादेशसोशल मीडिया

विवादित राष्ट्रीय सुरक्षा कानून पर चौतरफा घिरा चीन, हांगकांग में विरोध प्रदर्शन जारी

इस कानून के खिलाफ हांगकांग समेत दुनियाभर में आक्रोश देखा जा रहा है. अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन जैसे देशों ने कानून का विरोध किया है.

चीनी राष्ट्रीय सुरक्षा कानून एक जुलाई से हांगकांग में प्रभावी ढंग से लागू कर दिया गया है. चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग द्वारा अनुमोदित कानून के मुताबिक विदेशी शक्तियों के साथ अलगाव, तोड़फोड़, आतंकवाद और मिलीभगत का अपराधीकरण किया जाएगा है. ऐसे अपराधों में दोषी पाए गए लोग जेल में आजीवन कारावास की सजा भुगत सकते हैं.

मंगलवार को राष्ट्रीय सुरक्षा कानून चीनी संसद में पारित होने के बाद से ही हांगकांग में प्रदर्शन जारी है. लोकतंत्र समर्थकों ने बुधवार को भी चीन के खिलाफ रैली निकाली. इसपर पुलिस ने 300 से ज्यादा प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार कर लिया. इस रैली का आयोजन हांगकांग के हस्तांतरण को 23 साल पूरे होने पर किया गया था. ‘द लीग ऑफ सोशल डेमोक्रेट्स’ संगठन ने प्रदर्शन किया था.

प्रदर्शनकारियों ने आजादी की मांग की और नए कानून का विरोध किया. वहीं, ब्रिटेन ने हांगकांग के लोगों को शर्तों के साथ ब्रिटिश नागरिकता देने का फैसला लिया है. इस बात की पुष्टि ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने की है. इसके अलावा अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो का कहना है कि चीन हांगकांग के लोगों की आजादी छीन रहा है.

इस कानून के खिलाफ हांगकांग समेत दुनियाभर में आक्रोश देखा जा रहा है. अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया और ब्रिटेन जैसे देशों ने कानून का विरोध किया है. यह कहा जा रहा है कि हांगकांग पर अपनी पकड़ मजबूत बनाने के लिए चीन यह कानून लागू कर रहा है. आलोचकों का कहना है कि कानून से हांगकांग की स्वतंत्रता खतरे में आ जाएगी.

दरअसल इस कानून के तहत राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में डालने, विदेशी ताकतों के साथ अलगाव, तोड़फोड़ और आतंकवाद के दोषी व्यक्ति को अधिकतम उम्रकैद की सजा सुनाई जा सकती है. यह कानून से चीन की सुरक्षा एजेंसियों को हांगकांग में अपने आफिस खोलने की अनुमति देता है.

बता दें कि एक जुलाई 1997 को ब्रिटेन ने चीन को हांगकांग सौंप दिया था. इसके तहत क्षेत्र को खुद के भी कुछ अधिकार मिले हैं. इसमें अलग न्यायपालिका और नागरिकों के लिए आजादी के अधिकार शामिल हैं. यह व्यवस्था 2047 तक के लिए है.

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *