BANNER NEWSBREAKING NEWSदेशराजनिती

कांग्रेस ने PMNRF से राजीव गांधी फाउंडेशन को दान देकर जनता के पैसे पर डाला डाका ? जाने पूरा मामला !

यह धन तब लिया गया जब कांग्रेस केंद्रीय सत्ता का नेतृत्व कर रही थी. इस बारे में कांग्रेस अपनी सफाई में बहुत कुछ कह सकती है, लेकिन उससे संतुष्ट होना कठिन है.

चीन के मसले पर कांग्रेस तो मोदी सरकार को घेर ही रही थी, मगर भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की ओर से अब कांग्रेस पर करारा हमला किया गया है.इसके अलावा कांग्रेस ने पीएम केयर्स फंड के पैसे के इस्तेमाल को लेकर बार-बार सवाल किया. लेकिन बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने यूपीए सरकार के दौरान प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष से राजीव गांधी फाउंडेशन को दिए गए दान का खुलासा किया है.

बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नेशनल रिलीफ फंड (पीएमएनआरएफ) से राजीव गांधी फाउंडेशन को पैसा दान किया गया. यह पैसा उस समय दान किया गया, जब सोनिया गांधी पीएमएनआरएफ के बोर्ड में भी थीं और आरजीएफ की अध्यक्ष भी थीं.

बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा, ‘संकट में लोगों की मदद करने के लिए बना पीएमएनआरएफ, यूपीए के कार्यकाल में राजीव गांधी फाउंडेशन को पैसे दान कर रहा था. पीएमएनआरएफ बोर्ड में कौन बैठा? सोनिया गांधी. राजीव गांधी फाउंडेशन की अध्यक्षता कौन करता है? सोनिया गांधी, यह पूरी तरह से निंदनीय है.’

जेपी नड्डा ने कहा, ‘भारत के लोगों ने जरूरतमंदों की मदद करने के लिए अपनी मेहनत की कमाई को पीएमएनआरएफ को दान कर दिया. इस सार्वजनिक धन को परिवार चलाने की बुनियाद में इस्तेमाल करना न केवल एक संगीन धोखाधड़ी है, बल्कि भारत के लोगों के लिए एक बड़ा धोखा भी है.’

जेपी नड्डा ने एक के बाद एक कई ट्वीट किए. लिखा कि धन के लिए एक परिवार की भूख ने देश को बहुत नुकसान पहुंचाया है. इसके लिए कांग्रेस पार्टी को माफी मांगनी चाहिए. उन्होंने कहा कि सार्वजनिक धन को एक परिवार की तरफ से चलाए जा रहे फाउंडेशन में डालना एक गंभीर धोखेबाजी है.

बीजेपी अध्यक्ष नड्डा ने 2005-2006 और 2007-2008 में राजीव गांधी फाउंडेशन को दान देने वालों की लिस्ट शेयर की हैं, इनमें प्रधानमंत्री नेशनल रिलीफ फंड का भी नाम है.

राजीव गांधी फाउंडेशन क्या है?

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के लक्ष्यों को आगे बढ़ाने के लिए 21 जून 1991 को सोनिया गांधी ने इसकी शुरुआत की थी. फाउंडेशन 2010 से एजुकेशन को बढ़ावा देने पर ज्यादा फोकस कर रही है. इसका कामकाज डोनेशन से मिलने वाली रकम से चलता है. सोनिया इसकी चेयरपर्सन हैं. पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के अलावा राहुल गांधी, प्रियंका गांधी और पी. चिदंबरम ट्रस्टी हैं.

ऐसे में अब कांग्रेस के लिए भाजपा के इस आरोप का जवाब देना कठिन हो सकता है कि आखिर राजीव गांधी फाउंडेशन को PMNRF से दान क्यों दिया गया? अब तो आम धारणा तो यही बनेगी कि एक तरह से कांग्रेस पार्टी ने गुपचुप रूप से PMNRF से धन लिया. यह धन तब लिया गया जब कांग्रेस केंद्रीय सत्ता का नेतृत्व कर रही थी. इस बारे में कांग्रेस अपनी सफाई में बहुत कुछ कह सकती है, लेकिन उससे संतुष्ट होना कठिन है.

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *