BANNER NEWSBREAKING NEWSकोरोना वायरसदिल्लीदेश

कोरोना संक्रमण : दिल्ली हाईकोर्ट के इस आदेश के बाद लोगों को मिल सकेगी अस्पतालों की सही जानकारी !

अब जबकि दिल्ली हाईकोर्ट ने अस्पतालों को कोरोना मरीजों के बारे में रियल टाइम अपडेट करने का निर्देश दिया है, संभव है कि इस एप के जरिए लोगों को सभी अस्पतालों की जानकारी आसानी से हासिल हो सकेगी.

देश की राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में जून के शुरूआती हफ्तों से ही कोरोना संक्रमण के मामलों में तेजी देखी गई. मई के महीने में दिल्ली में 500 से हजार के बीच केस आते थे लेकिन जून में ये आंकड़ा 1500 के पार हुआ और उसके बाद देखते ही देखते रोजाना तीन हजार पॉजिटिव केस आना शुरू हो गए. ऐसे में कोरोना के बढ़ते मामलों के साथ ही अस्पतालों की जिम्मेदारी भी बढ़ जाती है.

इसके लिए COVID-19 मरीजों के बारे में रियल-टाइम अपडेट न करने वाले अस्पतालों के खिलाफ अब सख्त कार्रवाई होगी. दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi high court) ने इस संबंध में केंद्र और दिल्ली सरकार को निर्देश दिए हैं.हाईकोर्ट ने अपने निर्देश में कहा है कि कोरोना मरीजों और अस्पतालों में बेड्स की उपलब्धता के बारे में रियल टाइम अपडेट (real time update) न करने वाले अस्पतालों पर सख्त कार्रवाई की जाए.

कोर्ट ने इस संबंध में अस्पतालों और सरकार के बीच किसी भी तरह का कम्युनिकेशन गैप अगर हो, तो उसे भी दूर करने को कहा है. अदालत ने अपने निर्देश में दिल्ली सरकार को यह भी आदेश दिया है कि वह इसको लेकर विशेष रूप से अधिकारियों की ड्यूटी लगाए, ताकि सरकार और अस्पताल के बीच संवाद में कोई कमी न रहे.

आपको बता दें कि दिल्ली सरकार ने राजधानी के अस्पतालों में कोरोना मरीजों के बेहतर इलाज के लिए एक मोबाइल एप भी लॉन्च किया है. इस एप के जरिए कोरोना वायरस के संक्रमित मरीजों को दिल्ली के अस्पतालों में बेड्स की उपलब्धता, वेंटिलेटर, ऑक्सीजन और अस्पताल की अन्य सुविधाओं की रियल टाइम जानकारी मिलती है. सरकार ने मोबाइल एप लॉन्च करते समय कहा था कि इस एप के जरिए लोगों को दिल्ली के अस्पतालों में उपलब्ध सभी सुविधाओं की जानकारी मिलेगी.

इससे कोरोना मरीजों को अपने मनचाहे अस्पताल में इलाज कराने की सुविधा मिल सकेगी. एप लॉन्च किए जाने के बाद इसे रियल टाइम अपडेट न करने की शिकायतें आ रही थीं. अब जबकि दिल्ली हाईकोर्ट ने अस्पतालों को कोरोना मरीजों के बारे में रियल टाइम अपडेट करने का निर्देश दिया है, संभव है कि इस एप के जरिए लोगों को सभी अस्पतालों की जानकारी आसानी से हासिल हो सकेगी.

इसके साथ ही यह देखने में आ रहा है कि कभी लोगों को जरूरत न होते हुए भी अस्पतालों में भर्ती होना पड़ता है तो कभी जरूरत पड़ने पर भी भर्ती होने के लिए इंतजार करना पड़ता है. यह न केवल कष्टकारी है, बल्कि इससे अन्य लोग अनावश्यक रूप से चिंतित होते हैं.

मालूम हो कि राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए दिल्ली सरकार ने कई होटलों, बैंक्वेट हॉल और सार्वजनिक स्थानों पर अस्थाई अस्पताल बनवाए हैं. इस क्रम में छतरपुर स्थित राधास्वामी सत्संग व्यास में 10000 बेड का अस्पताल बनवाया गया है.

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *