BANNER NEWSBREAKING NEWSअन्यउत्तर प्रदेशकोरोना वायरसक्राइमदेशनारी शक्तिप्रदेशशहरसमाज

कानपुर के बालिका संरक्षण गृह में 57 लड़कियां कोरोना पोस्टिव, 7 प्रेग्‍नेंट, आखिर क्या हैं पूरा मामला ?

कानपुर स्थित बालिका संरक्षण गृह में 57 लड़कियां कोरोना से संक्रमित पाई गई हैं, और इन संक्रमित लड़कियों में से 7 लड़कियां गर्भवती हैं. इसके साथ ही दो ऐसी गर्भवती लड़कियां हैं जिनकी कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई है. कानपुर के राजकीय बाल संरक्षण गृह में कोरोना संक्रमण की जांच के दौरान पता चला कि यहां रहने वाली दो लड़कियां गर्भवती हैं.

 

कानपुर स्थित बालिका संरक्षण गृह में 57 लड़कियां कोरोना से संक्रमित पाई गई हैं, और इन संक्रमित लड़कियों में से 7 लड़कियां गर्भवती हैं. इसके साथ ही दो ऐसी गर्भवती लड़कियां हैं जिनकी कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई है. कानपुर के राजकीय बाल संरक्षण गृह में कोरोना संक्रमण की जांच के दौरान पता चला कि यहां रहने वाली दो लड़कियां गर्भवती हैं.

 

 

इतना ही नहीं इन दो में से एक को एचआईवी है दूसरी हेपेटाइटिस सी से ग्रस्‍त है. इस जानकारी के बाद स्‍थानीय प्रशासन में हड़कंप मच गया. बाद में प्रशासन ने जानकारी दी कि कुल 7 गर्भवती हैं और ये शेल्‍टर होम लाने से पहले ही प्रग्‍नेंट थीं.

इस खबर के आते ही मामले ने तूल पकड़ लिया. तमाम बातों और खबरों और प्रतिक्रियाओं के बीच घिरे पुलिस प्रशासन ने सफ़ाई पेश करने के लिए प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए अधिकारिक बयान जारी किया.

कानपुर के जिलाधिकारी डॉ ब्रह्मदेव राम ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मामले के बारे में बताया है कि 57 कोरोना पोस्टिव स बालिकाओं में से पांच बालिकाएं हैं जो गर्भवती हैं. और दो अन्य बालिकाएं गर्भवती हैं जिनकी कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई है.

इस पूरे मामले पर कानपुर के डीएम ने कहा कि कानपुर संवासिनी गृह में कोरोना पॉज़िटिव मामलों में से दो गर्भवती लड़कियों की खबर के बारे में यह स्पष्ट करना है कि ये पॉक्सो एक्ट के तहत CWC आगरा तथा कन्नौज के आदेश से दिसम्बर 2019 में यहॉं संवासित की गयी थीं और तत्समय किए गए मेडिकल परीक्षण के मुताबिक ये पहले से गर्भवती थीं.

डीएम ने ट्वीट किया कि कुछ लोगों ने कानपुर संवासिनी गृह को लेकर ग़लत उद्देश्य से पूर्णतया गलत सूचना फैलाई गई है. कोरोना काल में ऐसा कृत्य संवेदनहीनता का उदाहरण है. कृपया किसी भी भ्रामक सूचना को जांचे बिना पोस्ट ना करें. ज़िला प्रशासन इस विषय में आव़श्यक कार्रवाई के लिए लगातार तथ्य एकत्र कर रहा है.

दरअसल कानपुर के बालिका संरक्षण गृह में कोविड-19 से संक्रमण के कई मामले लगातार सामने आ रहे थे और अब इस मामले ने तूल पकड़ लिया जब बालिकाओं के गर्भवती होने की खबर सामने आई. तमाम बालिका गृह में हो रहे यौन उत्पीड़न की खबरों के इस दौर में कानपुर बालिका संरक्षण गृह प्रशासन पर सवाल खड़े हो रहे.

जिसके कारण पुलिस प्रशासन को स्पष्ट करना पड़ा कि शुरुआती खबरें अपुष्ट हैं. अभी तक इस संरक्षण गृह में कोरोना के 58 मामले सामने आए हैं जिनमें से 57 बालिकाएं हैं और एक स्टाफ कोरोना पोस्टिव है. इस मामले की गंभीरता का अंदाजा इस बात से आंका जा सकता है कि इस संरक्षण गृह को सील कर दिया गया है.

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *