BANNER NEWSBREAKING NEWSअन्यउत्तर प्रदेशछत्तीसगढ़जरा हटकेटेकदिल्लीदुनियादेशपंजाबप्रदेशबिहारबेबाकमध्य प्रदेशमनोरंजनमहाराष्ट्ररहन सहनराजस्थानशहरसमाजसंस्कृतिसोशल मीडियाहरियाणा

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस: प्रधानमंत्री ने बताया योग से कैसे रखें अपने आप को सकारात्मक रखें !

आज योग दिवस पर पूरे देश को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित करते हुए कहा कि अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस सार्वभौमिक भाईचारे का मैसेज देता है.

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को प्रतिवर्ष मनाया जाता है. योग शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य के लिए बेहद लाभदायक होता है. योगा करने से मानसिक तनाव और डिप्रेशन जैसी मानसिक समस्याओं से निजाद पाया जा सकता है. आज योग दिवस पर पूरे देश को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित करते हुए कहा कि अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस सार्वभौमिक भाईचारे का मैसेज  देता है.

उन्होंने ने कहा कि योग करने से आपको मानसिक शांति मिलती है, तथा आप योग करने सकारात्मकता महसूस करते हैं. योग सकारात्मकता को बनाए रखने में बेहद मददगार है. योग एक स्वस्थ ग्रह के लिए हमारी खोज को बढ़ाता है.

फिट और हेल्दी रहने के लिए योगा करना बहुत आवश्यक होता है. रोजाना योगा करने से कई स्वास्थ्य लाभ भी मिलते हैं. योगा करने से वजन कम होता है, इम्यूनिटी बूस्ट होती है, लचीलापन बढ़ता है, तनाव कम होता है. योग के बहुत सारे फायदे हैं.

हालांकि 2020 में फैली महामारी  COVID-19 के कारण दुनिया में कहीं पर भी योग से संबंधित कार्यक्रमों का आयोजन नहीं किया गया है इसके बावजूद, ईशा लॉकडाउन के उपरांत योग की कई वीडियो ऑनलाइन जारी कर रहा है जिसमें सरल योग के तरीके और प्रथाओं के विषय में बताया जा रहा है जो मनुष्य के स्वस्थ्य पर सकारात्मक और गहरा प्रभाव डाल रहा हैं

योग करने से आप हमेशा फिट और हेल्दी रह सकते हैं ये आपको स्वस्थ के लिए  बेहद जरूरी होता है. प्रतिदिन योगा करने से कई स्वास्थ्य लाभ भी मिलते हैं योगा करने से आपका बढ़ा हुआ वजन कम होता है, इम्यूनिटी बूस्ट होती है, लचीलापन बढ़ता है, तनाव कम होता है , मानसिक अवसाद से खतरे को कम किया जा सकता है.

योग के सभी आसन को नियमित रूप से अभ्यास करना चाहिए. नियमित योग करने से आपको मन की शांति मिलेगी और जीवन जीने की प्रेरणा भी मिलेगी. योग एक स्वस्थ जीवनशैली जीने की प्रेरणा देता है और तनावमुक्त रखने मे भी सहायक होता है. योग से नकारात्मकता कभी दूर होती है.

भारत में योग का इतिहास बहुत प्राचीन है, लेकिन भारत में इसका आरंभ का प्रस्ताव प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने दिया था. उन्होंने वैश्विक स्तर पर योग मनाने की मांग की थी.

उन्होंने अंतरराष्ट्रीय योग दिवस को मनाने की बात 27 सितंबर 2014 को यूएनजीए में भाषण देने के दौरान कही थी. जिसके बाद भारत के अतिरिक्त और भी कई देशों के नेताओं और अध्यात्मिक गुरुओं ने भी इस प्रस्ताव को समर्थन किया था.

बता दें कि इसमें ईशा फाउंडेशन के सदगुरु महाराज और आर्ट ऑफ लिविंग के श्री श्री रवि शंकर शामिल हैं. योग के लाभ और महत्व को जानने के उपरांत कई लोग योग को अपनी जिंदगी का एक हिस्सा बना चुकें हैं. गौरतलब है कि पहली बार विश्व योग दिवस के अवसर पर 192 देशों में योग का आयोजन किया गया जिसमें 47 मुस्लिम देश भी भाग लिए थे.

Tags
Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *